Caste based reservation

I was just having a discussion with my friend on a very broad topic. I had a lot to say about the topic that is why i had decided to write this post.  Today I am going to share my views on caste based reservation.

Well, we were talking about reservation , its origin, its consequence, its extent etc.

First of all, let me describe reservation. It is a special benefit given to a certain class of society in education, job and economic sector to create a sense of equality among the upper and the lower caste.

The reservation system finds its origin in the age-old caste system of India. The caste system at its birth was meant to divide people on the basis of their occupation like teaching and preaching (Brahmins), kingship and war (Kshatriya) and lastly business(vaish) etc. but soon it became an instrument to divide the society on caste-basis, creating various walls between different sections of the society.

The motive of reservation is somehow fading. Instead of creating a sense of equlaity, it is just giving birth to conflicts. I meant no disresepct to constitutional laws but saying everyone is equal inspite of their caste, gender and colour on one side and then giving reservation to some people on other side. Its really hard to understand which type of equality is this??

Like if a exam is conducted on country level,  a student scoring 105 marks did not get a college while other student who just had scored 80 marks got the college. For the same exam and same question paper such a huge difference in marks for getting the seats , i really can not say up to which extent it is right. Reserved candidates are getting the benefit here. But just ask if this is right , no i do not think so. Deserved candidate is one who scored 105 marks and still did not get the college. I.e. reserved people are better than deserved people.

This gives birth to frustation, negativity, and hatred view for the government among the deserved candidate and this does not ends here. Many are commiting suicide too. I heard student saying whether its our fault that we belong to a general cateogry. The governmet should think about this. Its high time to implement some new laws and to change some olds too. In the way of providing benefits to one class in the society, it is creating disturbance for other class. Balance between every class in the society is most important. We are living in a eduacted society and we should not let the government fool us on the name of caste.

Now coming to the solution, well its really not easy to uproot something like this which had been a part of our society since a long time. Let us assume if reservation policy is just completely erased by the government. Will it be accepted by the peoole???  Well the answer is a big no from those People who are getting benefits of reservation. They will start organising strikes beacause its human nature once they are being benefited by something they will not let that go so easily . They will keep trying to get that back. But if a slight change in the policy is brought it may work. Like instead of giving reservations in entrance exam like IIT , AIIMS , IIM government should give free  basic primary and secondary education to all of those. Teachers in the school should must be well trained. No need of mid- day meal and cycles. The students must get the benefit in education sector like one is getting in the best privates schools. The primary aim of  the school and the teacher must be making the student literate, preparing them for the tough entrance exams instead of giving them cycles and so called well nourished food. Strict norms should be implemented and should be strictly followed by the teachers and the students too.

There is a relevant quote.
” Give a man a fish you will feed him for a day, teach a person to fish you will feed him for lifetime”.

In the same way instead of giving reservations in education sector, ( seat for a college either on less marks) give them proper education, so that they can face the competition too on the same level. Give shape to their qualities, find out the good in them, make it to the best.

This is such a wide topic that a single post in not enough. I am going to continue this topic in my upcoming posts too.

I want you all to share your views regarding to this policy.

Advertisements

52 thoughts on “Caste based reservation

  1. Respectable Married Woman says:

    I see so much potential in you and that is why I am making these lengthy comments, please don’t think of them of as ‘ lectures’ but treat them as insights. I am just trying to broaden your view point and help you understand the issue better.. so, good luck.

    Liked by 1 person

    • mahimasingh97 says:

      I do not take lengthy comment as lectures, even i got new things to learn and most important perspective changes person to person. It helps me knowing what other thinks about the certain topic which i am thinking over.

      So keep commenting, no matter how lenghty your comments are. I loved your participation.

      Thanx ☺

      Liked by 1 person

  2. Respectable Married Woman says:

    For students from the general category, it might feel like a curse and I understand how frustrated they must feel, but, what they forget is that being born in the general category is also a blessing, they can enjoy the privileges of good education, economic well being, good life standards and most importantly social status devoid of caste based discrimination. They also forget that it is also a historic privilege available to them as a result of advantages given to their parents, their grand parents and all the way for hundreds of years.. I am not saying that it is their fault that they are born in general category but that if they have enjoyed the privileges of being in general category and have received many advantages, then they should not oppose the fact that other less fortunate people are getting advantages in the form of reservation..

    I feel terribly sad that many general students are killing themselves out of frustration that they could not get into desired educational institutions.. I truly feel sorry for them, but the fate of the lower caste students is even worse. Even after, getting into colleges, they are discriminated and prevented from pursuing their dreams just for one reason : caste.
    The most recent is the case of Rohit Vemula, a dalit scholar , who was forced to end his life due to caste based discrimination. The college authorities were not even giving the son of a poor single mother his scholarship money that he was entitled to, why ? because he is a dalit.

    So my point is doing away with caste based reservation will only make such discrimination worse. imagine this (if there is no caste based reservation ) if there are 30 seats in a college and 100 candidates are eligible, then the casteist college authorities might choose only upper caste students. what do you think about this?..

    Keep up the debate and the good work.. happy that a young person like you is interested in larger social concerns

    Liked by 1 person

  3. abhi sinha says:

    Mahima, the problem is that India, having Every Fourth Citizen as belonging to the So called lower caste, does not have the same numbers when it comes to postings

    Liked by 1 person

  4. Imran Ali says:

    अगर मैं झूठ बोलूंगा तो गैरत मार डालेगी,
    अगर मैं सच बोलूंगा तो हुकुमत मार डालेगी।

    बहुत होशियार रहना है हिन्दू-मुस्लमां को,
    वरना लड़ाकर आपस में सियासत मार डालेगी।..

    Liked by 1 person

  5. ajaykohli says:

    Its political nothing else in 68 years no govt dared to touch it rather its been increased ,solution is military rule rest all is nonsense ,every guy has got some inbuilt capabilities ,like a farmer son generally grows in environment which is suitable for being a farmer its natural ,a lion cub becomes lion not dog ,there is no harm or shame in being a farmer provided farmers get good life ,problem is vast difference in social status ,I personally have felt that reservation is more about fooling people ,castes are made to divide and rule from centuries

    Liked by 1 person

    • mahimasingh97 says:

      Yes exactly reservation is not only dividing people on the name of caste but it is also creating conflicts among the same class and same caste.

      For ex- if 20% quota is for the reserved class…they are benefited by the reserved criteria but wat about the rest 80% of same class. They are still deprived of that. One who is benefited will got the benefit again and again but one who is deprived will continue to be deprived. For the same class, reservation had created big difference too.

      Like

      • ajaykohli says:

        Poor don’t need reservations they are happy living on footpath ,no matter how much you do for them they will still love to live the way they are living ,rich doesn’t need reservations they have this much that it hardly matters to them its stupid middle class that is sleeping rather dead , we need yo uproot this sick democracy ,we need revolt

        Liked by 1 person

  6. swamiyesudas says:

    Mahima, the problem is that India, having Every Fourth Citizen as belonging to the So called lower caste, does not have the same numbers when it comes to postings. Not even as Clerks. So, till they come up in life, Reservations shall ‘have’ to continue, and be Truly Implemented. …Not in the ‘Jat’ way, of course. The leaders of that group need to be put in Jail ASAP.

    Please do go through my: https://lovehappinessandpeace.wordpress.com/2016/01/24/dalits-aka-untouchables/

    And Thanks, my Dear, for the Follow.

    Regards.

    Liked by 1 person

      • davekingsbury says:

        Thanks for the link. Your piece was helpful and I have commented upon it. It seems, alas, that the world is preoccupied with too many problems to attend to human rights issues – these, however, could be part of the solution.

        Liked by 2 people

    • mahimasingh97 says:

      Thank u..
      Well the question is from a non indian..still i would like to say something related with that.

      I think its complteley discriminating. Reservation policy was implemented to create a sense of equality among them who were once feeling discriminated but the result of this policy is somehow discriminating too. The aim of policy looks like if a certain class were being discriminated earlier then later the other class will have to go through the same situation. The policy seems like a revenge policy, which is completely undemocartic

      Liked by 1 person

      • davekingsbury says:

        Ah yes, complex like many human problems. It would be helpful if politicians would clarify the stream of debate instead of muddying the waters! Let’s hope the internet can be a force for enlightenment.

        Liked by 1 person

      • Respectable Married Woman says:

        it looks like one but it is definitely not a revenge policy… It is just trying to compensate for the historic injustices.. In a race of 100 meters, the starting line should be the same for all the candidates, the general category is already much ahead, say 20 mts from the starting point because of better education, social status and other privileges given to them by their upper caste. They are already in an advantageous position.. whereas, the lower castes on the other hand are far behind say 20 mts behind the starting point, because of hundreds of years of all forms of dis crimination.. so, the reservation system is just trying to make sure that they are also given certain advantages… in order to make sure that both of them run the race from the same starting point..

        Like

  7. The lonely poet.. says:

    Imran Ali.. Sorry yaar.. Please summarize your views so that ppl can know what you actually intended to say !! Let me begin by saying am a brahmin and hence, my opposed to reservations should not be a surprise. However, there are facts we should consider as well. Right from independence, India has evolved strongly to become one of major contenders for being a next super power. While the growth of India over sixty seventy years has come in patches be it green revolution era, white revolution, industrialization, time under ab vajpayee to say some, the same growth has not been equal in nature. We have had areas which developed astoundingly like Punjab, Maharashtra, Delhi and areas like north east, Bihar, odisha and ap for a long time. People and their issues were neglected by successive govts because lack of proper representation or may be lack of voice. Similarly, while we have reserved seats for sc and st everywhere. Its easily seen the rich got richer and poor got poorer. Same reservation brought abt this. But while reservation has its flaws, can and should we completely take it out or should we find a better form of the same. For example- suppose a guy from good family gets 100 after heavy tutoring and taking all these crash courses and a poor guy gets 80 without any of these, are we really saying that the latter is not the deserved one. My point is simple caste based reservation has huge flaws as we gave forgotten who actually need reservation let’s tweak it for poor. At the same time, let’s work on alternatives and a system as to how we can provided growth and education based support to the poor so that we can remove education in long run. That’s my views.

    Liked by 2 people

    • Respectable Married Woman says:

      I agree with you that it has to be ‘poor oriented’ but I also want to draw your attention to the fact that poverty and social status even today, is closely tied up with caste based discrimination. Also, Most often lower caste people are not given opportunities due to the social stigma attached to caste.
      These problems can not be addressed by reservation based on economic category alone.

      Liked by 2 people

      • The lonely poet.. says:

        Well.. Honestly.. There are still a lot of villages where it co exists.. But its really difficult to find rich people of low caste who are unable to provide a decent education to his children.. In today’s world, that’s difficult !! And if a person gets very good education, I feel that itself has leveled the several centuries of unethical treatment. Now the person is as equipped to use his knowledge as a child from upper caste in such cases, to still give him a push is neglecting people who actually need it .

        Liked by 1 person

      • Respectable Married Woman says:

        Yes, they are able to provide a decent education but that does not protect them discrimination. If the upper castes truly believed that the lower castes are equal to them, then why is marriage very caste exclusive in India? why do khap panchayats and honour killings still exist..
        In many offices and educational institutions recommendations, favours and promotions are denied to the lower castes because of casteist superiors. One of own teachers preferred me over other lower caste students because I belonged to the dominant caste.. I know of many friends who were not given preference to participate in seminars and present papers because of their caste( they were very ‘qualified’ by the way)
        I f there is no caste based reservation then the casteist mindset of people in power ( majority of them upper castes acc. to survey data) might simply refuse to give admission to them, If two candidates had same marks , then the upper caste student will be given preference.
        This is exactly what we did before independence, we had so much power in our hands that we did not even allow them enter schools.
        As to one generation of education levelling historic injustice, I am afraid it is not so simple. If a person is not discriminated in one generation it does not mean that his children will not be discriminated too.. because, the mindset of people regarding caste is to a great extent the same.. people are raped, tortured and killed in the name of caste( even though caste based discrimination is prohibited by law) .. If more than 6 decades of independence is not able to secure them basic human rights, then how can we say that it will secure them privileges like quality education and dignified employment.

        Liked by 1 person

      • The lonely poet.. says:

        Well.. Tell me something.. How many rich lower caste/ class people stay back in villages now !? Over the past two decades, we have seen a huge movement of people who were discriminated in villages to small towns/ cities. Such movements allowed them to provide privilege of education to next generation. Having a good amount of experience of education in small towns, I really never felt teachers discriminating on basis of caste in our evaluation. Of course, there will many towns where such things might be happening but we have come a long way over last two decades to reduce it because the teachers themselves are of varied caste. So tell me when we have a poor family say upper or lower caste who gave IIT or any good govt. college entrance and a guy who studied in town or city and you are giving equal reservation to both on account of their caste, what levels of fairness and justice are we talking about. Have you seen sometimes in IIT/IIMs you will find the vast amount of students who got through via reservation, they come from affluent families whose parents provided them adequate financial support for the same. If we end up giving them, the privileges of reservation, then what is the point of reservation. There are people who might not get basic rights as you said and there are some who even rule places in name of caste, what did we do to differentiate between two.. Nothing, you know why: votes.

        Liked by 1 person

      • Respectable Married Woman says:

        I do agree that many rich lower caste people migrate to towns, where they get better facilities like any rich/poor villager who also migrates to towns in search of the same, by the way only 10% of urban population is of SC ST category….even then being in town is not a protective shield over discrimination, even today the upper castes hold most of the important positions in society, take a look at this study collaboratively undertaken by Princeton University and the Indian Institute of Dalit Studies that shows how candidates were discriminated for employment in private sector because of caste
        http://watson.brown.edu/news/2011/research-details-caste-discrimination-indian-private-sector
        The same would happen in government sector and educational institutions in the absence of caste based reservation , take a look at the
        census data, and you will know that even after 68 years of reservation the ratio of lower caste, more specifically, SC and ST to that of upper castes in terms of employment and education etc, is tilted in favour of upper castes.
        I am not saying that people are not misusing it, and that some people who don’t really need the benefits are still exploiting it, but what I am saying is misuse is applicable to any law in India, the people who badly need reservation is very high compared to the people who misuse it.. I see many flaws in reservation but still I feel that the reasons to continue it is more compelling than the reason to discontinue it.. Also, you are only focusing only on education and employment but you conveniently sidestep the most important reason why reservation came into existence, that is social justice.
        you say that in your life you have not come across any discrimination or that such discrimination “might” be happening in some villages.. just type dalit killings or honour killings in your browser and see how many hundred pages open.. I am not saying that poor upper caste people should not be given any privileges to compensate for their economic backwardness, all I am saying is it could be in the form of scholarships or relaxation of eligibility criteria along non caste based economic criteria, in addition to the existing system of caste based reservation.
        Ending caste based reservation or making it exclusively based on economic criteria is not enough, to tackle caste based discrimination..
        I know that reservation should end when it has served its purpose but we have not become a decent society enough for that to happen any time soon…

        Like

      • Respectable Married Woman says:

        I do agree that many rich lower caste people migrate to towns, where they get better facilities like any rich/poor villager who also migrates to towns in search of the same.. being in town is not a protective shield over discrimination, even today the upper castes hold most of the important positions in society, take a look at the census data,

        Liked by 1 person

  8. Imran Ali says:

    भारत में आर्य / ब्राह्मण आक्रमण और मूलनिवासियो के स्वर्णकाल का पतन 
    21 मई, 2001 को अख़बार “TIMES OF INDIA” में भारत के लोगों के DNA से सम्बंधित शोध रिपोर्ट छपी लेकिन मातृभाषा या हिंदी अखबारों में यह बात क्यों नहीं छापी गयी? क्योकि इंग्लिश अखबार ज्यादातर विदेशी लोग यानी ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य लोग ही पढ़ते है मूलनिवासी लोग नहीं। विदेशी यूरेशियन जानकारी के बारे में अतिसंवेदनशील लोग है और अपने लोगो को बाख़बर करना चाहते थे, ये इसके पीछे मकसद था। मूलनिवासी लोगो को यूरेशियन सच से अनजान बनाये रखना चाहते है। THE HIDE AND THE HIGHLIGHT TWO POINT PROGRAM. सुचना शक्ति का स्तोत्र होता है। 

    DNA Report 2001यूरोपियन लोगो को हजारों सालों से भारत के लोगो, परम्पराओं और प्रथाओं में बहुत ज्यादा दिलचस्पी है। क्योकि यहाँ जिस प्रकार की धर्मव्यवस्था, वर्णव्यवस्था, जातिव्यवस्था, अस्पृश्यता, रीति-रिवाज, पाखंड और आडम्बर पर आधारित धर्म परम्पराए है, उनका मिलन दुनिया के किसी भी दूसरे देश से नहीं होता। इसी कारण यूरोपियन लोग भारत के लोगों के बारे ज्यादा से ज्यादा जानने के लिए भारत के लोगों और धर्म आदि पर शोध करते रहते है। यही कुछ कारण है जिसके कारण विदेशियों के मन में भारत को लेकर बहुत जिज्ञासा है। इन सभी “व्यवस्थाओं के पीछे मूल कारण क्या है” इसी बात पर विदेशों में बड़े पैमाने पर शोध हो रहे है। मुश्किल से मुश्किल हालातों में भी विदेशी भारत में स्थापित ब्राह्मणवाद को उजागर करने में लगे हुए है। आज कल बहुत से भारतीय छात्र भी इन सभी व्यवस्थों पर बहुत सी विदेशी संस्थाओं और विद्यालयों में शोध कर रहे है। 
    अमेरिका के उताह विश्वविद्यालय वाशिंगटन में माइकल बामशाद नाम के आदमी ने जो BIOTECHNOLOGY DEPARTMENT का HOD ने भारत के लोगों के DNA परीक्षण का प्रोजेक्ट तैयार किया था। बामशाद ने प्रोजेक्ट तो शुरू कर दिया, लेकिन उसे लगा भारत के लोग इस प्रोजेक्ट के निष्कर्ष (RESULT REPORT) को स्वीकार नहीं करेंगे या उसके शोध को मान्यता नहीं देंगे। इसलिए माईकल ने एक रास्ता निकला। माईकल ने भारत के वैज्ञानिकों को भी अपने शोध में शामिल कर लिया ताकि DNA परिक्षण पर जो शोध हो रहा है वो पूर्णत पारदर्शी और प्रमाणित हो और भारत के लोग इस शोध के परिणाम को स्वीकार भी कर ले। इसलिए मद्रास, विशाखापटनम में स्थित BIOLOGUCAL DEPARTMENT, भारत सरकार मानववंश शास्त्र – ENTHROPOLOGY के लोगों को भी माइकल ने इस शोध परिक्षण में शामिल कर लिया। यह एक सांझा शोध परीक्षण था जो यूरोपियन और भारत के वैज्ञानिको ने मिल कर करना था। उन भारतीय और यूरोपियन वैज्ञानिकों ने मिलकर शोध किया। ब्राह्मणों, राजपूतों और वैश्यों के डीएनए का नमूना लेकर सारी दुनिया के आदमियों के डीएनए के सिद्धांत के आधार पर, सभी जाति और धर्म के लोगों के डीएनए के साथ परिक्षण किया गया। 

    यूरेशिया प्रांत में मोरूवा समूह है, रूस के पास काला सागर नमक क्षेत्र के पास, अस्किमोझी भागौलिक क्षेत्र में, मोरू नाम की जाति के लोगों का DNA भारत में रहने वाले ब्राह्मणों, राजपूतों और वैश्यों से मिला। इस शोध से ये प्रमाणित हो गया कि ब्राह्मण, राजपूत और वैश्य भारत के मूलनिवासी नहीं है। महिलाओं में पाए जाने वाले 

    MITICONDRIYAL DNA(जो हजारों सालों में सिर्फ महिलाओं से महिलाओं में ट्रान्सफर होता है) पर हुए परीक्षण के आधार पर यह भी साबित हुआ कि भारतीय महिलाओं का DNA किसी भी विदेशी महिलाओं की जाति से मेल नहीं खाता। भारत के सभी महिलाओं एस सी, एस टी, ओबीसी, ब्राह्मणों की औरतों, राजपूतों की महिलाओं और वैश्यों की औरतों का DNA एक है और 100% आपस में मिलता है। वैदिक धर्मशास्त्रों में भी कहा गया है कि औरतों की कोई जाति या धर्म नहीं होता। यह बात भी इस शोध से सामने आ गई कि जब सभी महिलाओं का DNA एक है तो इसी आधार पर यह बात वैदिक धर्मशास्त्रों में कही गई होगी। अब इस शोध के द्वारा इस बात का वैज्ञानिक प्रमाण भी मिल गया है। सारी दुनिया के साथ-साथ भारतीय उच्चतम न्यायलय ने भी इस शोध को मान्यता दी। क्योकि यह प्रमाणित हो चूका है कि किसका कितना DNA युरेशियनों के साथ मिला है: 
    ब्राह्मणों का DNA 99.99% युरेशियनों के साथ मिलता है। 
    राजपूतों(क्षत्रियों) का DNA 99.88% युरेशियनों के साथ मिलता है। 
    और वैश्य जाति के लोगों का DNA 99.86% युरेशियनों के साथ मिलता है। 
    राजीव दीक्षित नाम का ब्राह्मण (ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में प्रोफ़ेसर) ने एक किताब लिखी। उसका पूना में एक चाचा, जो जोशी(ब्राह्मण) है, ने वो किताब भारतमें प्रकाशित की, में भी लिखा है “ब्राह्मण, राजपूत और वैश्यों का DNA रूस में, काला सागर के पास यूरेशिया नामक स्थान पर पाई जाने वाली मोरू जाति और यहूदी जाति (ज्यूज – हिटलर ने जिसको मारा था) के लोगों से मिलता है। राजिव दीक्षित ने ऐसा क्यों किया? ताकि अमेरिकन लोग भारत के ब्राह्मण, राजपूत और वैश्य जाति के लोगों को अमेरिका में एशियन ना कहे। राजीव दीक्षित ने बामशाद के शोध को आधार बनाकर यूरेशिया कहाँ है ये भी बता दिया था। राजीव दीक्षित एक महान संशोधक था और वास्तव में भारत रत्न का हक़दार था।
    DNA परिक्षण की जरुरत क्यों पड़ी? 
    संस्कृत और रूस की भाषा में हजारों ऐसे शब्द है जो एक जैसे है। यह बात पुरातत्व विभाग, मानववंश शास्त्र विभाग, भाषाशास्त्र विभाग आदि ने भी सिद्ध की, लेकिन फिर भी ब्राह्मणों ने इस बात को नहीं माना जोकि सच थी। ब्राहमण भ्रांतियां पैदा करने में बहुत माहिर है, पूरी दुनिया में ब्राह्मणों का इस मामले में कोई मुकाबला नहीं है। इसीलिए DNA के आधार पर शोध हुआ। ब्राह्मणों का DNA प्रमाणित होने के बाद उन्होंने सोचा कि अगर हम इस बात का विरोध करेंगे तो दुनिया में हम लोग बेबकुफ़ साबित हो जायेंगे। तथ्यों पर दोनों तरफ से चर्चा होने वाली थी इसीलिए ब्राह्मण, राजपूत और वैश्य लोगों ने चुप रहने का निर्णय लिया। “ब्राह्मण जब ज्यादा बोलता है तो खतरा है, ब्राह्मण जब मीठा बोलता है तो खतरा बहुत नजदीक पहुँच गया है और जब ब्राह्मण बिलकुल नहीं बोलता। एक दम चुप हो जाता है तो भी खतरा है।“ ITS CONSPIRACY OF SILENCE- DR. B.R. AMBEDKAR अगर ब्राह्मण चुप है और कुछ छुपा रहा है तो हमे जोर से बोलना चाहिए। 
    इस शोध का परिणाम यह हुआ कि अब हमे अपना इतिहास नए सिरे से लिखना होगा। जो भी आज तक लिखा गया है वो सब ब्राह्मणों ने झूठ और अनुमानों पर आधारित लिखा है। अब अगर DNA को आधार पर विश्लेषण किया जाये, और इतिहास फिर से ना लिखा जाये तो दुनिया ब्राह्मणों को BACKWARD HISTORIAN कहेंगे। DNA पीढ़ी दर पीढ़ी बिना किसी बदलाव के स्थानांतरित होता रहता है। आक्रमणकारी लोग हमेशा अल्पसंख्यक होते है और वह की प्रजा बहुसंख्यक होती है। जब भी अल्पसंख्यक और बहुसंख्यक की बात आती है तो आक्रमणकारी लोगों के मन में बहुसंख्यकों के प्रति हीन भावना का विकास होता है। इसीलिए ब्राह्मणों के मन में मूलनिवासियों के प्रति हीन भावना का विकास हुआ। युद्ध में हारे हुए लोगों को गुलाम बनाना एक बात है, लेकिन गुलामों को हमेशा के लिए गुलाम बनाये रखना दूसरी बात है। यह समस्या ब्राह्मणों के सामने थी। 
    ऋग्वेद में ब्राह्मणों को देव और मूलनिवासियों को असुर, राक्षस, शुद्र, दैत्य या दानव कहा गया है यह बात प्रमाणित है और इस बात के बहुत से सबुत भी है। भारत के बहुत से लेखकों ने इस बात को कई बार प्रमाणित किया है। यहाँ तक डॉ भीम राव अम्बेडकर ने भी अपनी किताबों में इस बात को प्रमाणित किया है। एक सबुत यह भी है कि देव अब ब्राह्मण कैसे हो गये? दीर्घकाल तक मूलनिवासियों को गुलाम बनाने के लिए ब्राह्मणों ने वर्ण व्यवस्था स्थापित की। मूलनिवासियों को शुद्र घोषित किया गया। क्रमिक असमानता में ब्राह्मणों, राजपूतों और वैश्यों को अधिकार प्राप्त है, मूलनिवासी शूद्रों को कोई अधिकार नहीं दिया गया। मूलनिवासियों को भी अधिकार होना चाहिए था मगर उनको शुद्र बना कर सभी अधिकारों से वंचित कर दिया गया। ऐसा क्यों किया गया? खुद को सर्वश्रेष्ठ साबित करने के लिए, ताकि मूलनिवासी हमेशा शुद्र बने रहे और बिना किसी युद्ध के ब्राह्मणों, राजपूतों और वैश्यों के गुलाम बने रहे। 

    ब्राह्मण, राजपूत और वैश्य अगर एक है तो उन्होंने अपनों को तीन हिस्सों में क्यों बंटा? मूलनिवासियों को हमेशा के लिए गुलाम बनाने के लिए व्यवस्था बनाना जरुरी था। संस्कृत में वर्ण का अर्थ होता है रंग। तो वर्णव्यवस्था का अर्थ है रंगव्यवस्था। संस्कृत के शब्दकोष में आपको आज भी वर्ण का अर्थ रंग ही मिलेगा। ये रंगव्यवस्था/वर्णव्यवस्था क्यों? क्योकि ब्राह्मण, क्षत्रिय और वैश्यों का रंग तो एक ही है। इसीलिए रंगव्यवस्था में ये तीनों वर्ण अधिकार सम्पन है। चौथे रंग का आदमी उनके रंग का नहीं है। इसीलिए अधिकार वंचित है। DNA की वजह से विश्लेषण करना संभव है। नस्लीय भेदभाव की विचारधारा का नाम ही ब्राह्मणवाद है। वर्णव्यवस्था के द्वारा ही गुलाम बनाना और दीर्घ काल तक गुलाम बनाये रखना ब्राह्मणों के लिए संभव हो पाया। 

    ब्राह्मणों ने सभी धर्मशास्त्रों में महिलाओं को शुद्र क्यों घोषित किया? ये आज तक का सबसे मुश्किल सवाल था, ब्राह्मणों ने अपनी माँ, बहन, बेटी और पत्नी तक को शुद्र घोषित कर रखा है। DNA में MITOCONDRIVAL DNA के आधार पर ये सच सामने आया कि भारत की सभी महिलाओं का DNA 100% एक है और भारत की महिलाओं का DNA किसी भी विदेशी महिला के DNA से नहीं मिलाता। इस से साबित हो जाता है कि भारत की सभी महिलाये मूलनिवासी है, इसीलिए ब्राह्मणों ने अपनी माँ, बहन, बेटी और पत्नी तक को शुद्र घोषित कर रखा है। ब्राह्मण, राजपूत और वैश्य जानते है कि उन्होंने केवल प्रजनन के लिए महिलाओं का उपयोग किया है। इसीलिए भी अपनी माँ, बेटी और बहन को शुद्र घोषित कर रखा है। ब्राह्मण हमेशा शुद्धता की बात करता है। ब्राह्मण जानता है कि आदमी का DNA सिर्फ आदमी में स्थानांतरित होता है, इसीलिए ब्रहामण स्त्री को पाप योनी मानता है। क्योकि वो उनकी कभी थी ही नहीं। DNA और धर्मशास्त्र दोनों के आधार पर ये बात सिद्ध की जा सकती है। इससे ये भी साबित हुआ कि आर्य ब्राह्मण स्थानांतरित नहीं हुए, आर्य आक्रमण करने के उद्देश्य से भारत में आये थे। क्योकि जो आक्रमण करने आते है वो अपनी महिलाओं को कभी अपने साथ नहीं लाते। ऐसी उस समय की मान्यता थी इसीलिए आज भी आर्यों का स्वाभाव आज तक वैसा ही बना हुआ है। 
    बुद्ध ने वर्णव्यवस्था को समाप्त किया। हमारे गुलामी के विरोघ में लड़ाने वाला सबसे पुराना और बड़ा पूर्वज था। इसका मतलब ये है कि वर्णव्यवस्था बुद्ध के काल में भी थी। यह बात प्रामाणिक है कि इस जन आंदोलन में बुद्ध को मूलनिवासियों ने ही सबसे जयादा जन समर्थन दिया। जैसे ही वर्णव्यवस्था ध्वस्त हुई तो चतुसूत्री पर आधारित नई समाज रचना का निर्माण हुआ। उसमें समता, स्वतंत्रता, बंधुत्व और न्याय पर आधारित समाज की व्यवस्था की गई। 
    इस क्रांति के बाद प्रतिक्रांति हुई, जो पुष्यमित्र शुंग(राम) ने बृहदत की हत्या करके की। वाल्मीकि शुंग दरबार का राजकवि था और उसने पुष्यमित्र शुंग और बृहदत को सामने रख कर ही रामायण लिखी। इसका सबुत “वाल्मीकि रामायण” में है। बृहदत की हत्या पाटलिपुत्र में हुई थी, पुष्यमित्र शुंग की राजधानी अयोध्या में थी। रामायण के अनुसार राम की राजधानी भी अयोध्या में थी। पुरातात्विक प्रमाण है, कोई भी राजा अपनी राजधानी का निर्माण करता है तो उस जगह को युद्ध में जीतता है, फिर अपनी राजधानी बनाता है। मगर अयोध्या युद्ध में जीत गई राजधानी नहीं थी। इसिलए उसका नाम रखा गया अयोध्या अर्थात अ+योद्ध्या; युद्ध में ना जीत गई राजधानी। पुष्यमित्र शुंग ने अश्वमेध यज्ञ किया, रामायण में राम ने भी अश्वमेध यज्ञ किया। 
    पुष्यमित्र ने जो प्रतिक्रांति की इसके बाद भारत में जाति व्यवस्था को स्थापित किया गया। पहले गुलाम बनाने के लिए वर्णव्यवस्था और प्रतिक्रांति के बाद मूलनिवासी हमेशा गुलाम बने रहे, उसके लिए जाति व्यवस्था का निर्माण किया गया। मूलनिवासियों का प्रतिकार हमेशा के लिए खत्म करने के लिए विदेशी आर्यों ने योजना बना कर सभी मूलनिवासियों को अलग अलग 6743 जातियों में बाँट दिया। जिससे मूलनिवासियों में एक मानसिक स्थिति पैदा हो गई कि हम प्रतिकार करने योग्य नहीं रह गये। गुलामों में ही ऐसी मानसिक स्थिति होती है। 
    ब्राह्मणों ने जातिव्यवस्था को क्रमिक असमानता पर खड़ा किया गया। असमान लोग एक होने चाहिए थे लेकिन ब्राह्मणों ने असमान लोगों को भी क्रमिक असमानता में विभाजित किया। प्रतिकार अंदर ही अंदर होता है। लेकिन जिसने गुलामी लादी उसका प्रतिकार करने का ख्याल भी मन में नहीं आता क्योकि ब्राह्मणों ने मूलनिवासियों में जाति पर आधारित लड़ाईयां करवाना शुरू कर दिया। जिससे मूलनिवासी आपस में ही लड़ने लगे और उन्होंने असली गुलामी लादने वाले का प्रतिकार करना बंद कर दिया। DNA शोध सिद्ध करता है कि जाति/वर्ण व्यवस्था का निर्माणकर्ता ब्राह्मण है उसने सभी को विभाजित किया लेकिन खुद को कभी विभाजित नहीं होने दिया। 
    जाति के साथ ब्राह्मणों की सर्वोच्चता जुडी हुई है। इसलिए ब्राह्मणों के सामने हमेशा संकट खड़ा रहा कि इस व्यवस्था को कैसे कायम रखा जाये। जाति प्रथा को बनाये रखने के लिए ब्राह्मणों ने निम्न परम्पराओं और प्रथाओं का विकास किया; 
    कन्यादान परम्परा – कन्या कोई वस्तु नहीं है जिसका दान किया जाये। लेकिन ब्राह्मणों ने बड़ी चालाकी के साथ धर्म का प्रयोग करते हुए, ऐसी व्यवस्था बनाई कि जब कन्या शादी योग्य हो जाये तो उसकी शादी की जिमेवारी माँ-बाप की होगी। माँ-बाप कन्या की शादी ब्राह्मणों द्वारा स्थापित “ब्राह्मण सामाजिक व्यवस्था” के अनुसार ही करेंगे। अगर लडकी जाति से बाहर अपनी पसंद से शादी करेगी तो जाति व्यवस्था समाप्त हो जायेगी और ब्राह्मणों की सर्वोच्चता समाप्त हो जायेगी। ऐसे तो मूलनिवासियों की गुलामी समाप्त हो जायेगी, ये नहीं होना चाहिए इसीलिए “ब्राह्मण सामाजिक व्यवस्था” स्थापित करके कन्यादान की प्रणाली विकसित की गई। 
    बाल विवाह प्रथा – लडकी विवाह योग्य होने पर अपनी पसंद से शादी कर सकती है और उस से जातिव्यवस्था समाप्त हो सकती है तो उसके लिए बालविवाह व्यवस्था को स्थापित किया गया। ताकि बचपन में ही लडकी की शादी कर दी जाये। क्योकि माँ-बाप तो अपनी ही जाति में लडकी की शादी करवाएंगे और मूलनिवासी गुलाम के गुलाम ही बने रहेंगे। ज्यादा जानकारी के लिए CAST IN INDIA और ANHILATION OF CASTE किताबे पढ़े, जो डॉ. भीम राव अम्बेडकर ने लिखी है। 
    विधवा विवाह प्रथा – विधवा विवाह निषेध कर दिया गया। अगर कोई विधवा किसी विवाह योग्य लडके से शादी कर लेती है तो समाज में एक लड़का कम हो जायेगा, और जिस लडकी के लिए लड़का कम होगा वो लडकी जाति से बाहर जा कर शादी कर सकती है। इससे भी जाति प्रथा को खतरा था तो विधवा विवाह भी निषेध कर दिया गया था। जाति अंतर्गत विवाह जाति बनाये रखने का सूत्र है और जाति व्यवस्था वनाये रखने के लिए महिलाओं का इस्तेमाल किया जाता है। इस व्यवस्था को बनाये रखने के लिए विधवाओं पर मन मने अत्याचार होते थे। ब्राह्मणों ने देखा कि विधवा को टिकाये रखना संभव नहीं है तो विधवाओं के लिए नए क़ानून बनाये गये। विधवा सुन्दर नहीं दिखनी चाहिए इसलिए उनके बाल काट दिए जाते थे। कोई उनकी ओर आकर्षित ना हो जाये इसलिए उनको साफ़ सफाई से रहने का अधिकार नहीं था। ताकि कोई उनके साथ शादी करने को तैयार ना हो जाये। यानी किसी भी स्थिति में जातिव्यवस्था बनी रहनी चाहिए। 
    सतीप्रथा – ब्राह्मणों ने विधवा औरतों से निपटने और जाति व्यवस्था को बनाये रखने के लिए दूसरा रास्ता सती प्रथा निकला। धर्म के नाम पर औरतों में गौरव भाव का निर्माण किया। जैसे कि मरने वाली स्त्री सचे चरित्र, पतिव्रता और पवित्र है इसीलिए सती है। जो स्त्री सची है उसे अपने पति की चिता में जिन्दा जल जाना चाहिए। स्त्रियों में गौरव की भावना का निर्माण करने के लिए बडसावित्री नाम की प्रथा को जन्म दिया गया। ब्राह्मणों ने जितने भी घटिया काम किये उन पर गर्व किया। और महिलाये बिना सच को जाने अपनी जान देती रही। 
    बडसावित्री संस्कार भी बहुत योजनाबढ तरीके से बनाया गया है। इस में औरत हाथ में धागा लेकर चक्कर कटती है और कहती है “यही पति मुझे अगले सात जन्मों तक मिलाना चाहिए, यह शराबी है, मुझे मारता पिटता है, मेरे पर अत्याचार करता है, फिर भी मुझे यही पति मिलाना चाहिए।“ यह ब्राह्मणों का एक बहुत गहरा षड्यंत्र है, यह त्यौहार हर साल आता है। हर साल स्त्रियों के मन में यह संस्कार डाला जाता है। यही पति तुम को मिलाने वाला है और कोई नहीं मिलेगा और अगर तुम जिन्दा रहती हो तो जब तक जिन्दा रहोगी तब तक तुम्हारे पुनर्मिलन में बहुत देरी हो जायेगी। अगर तुम अपने पति के साथ चिता पर मर जोगी तो एक ही तारीख में, एक ही समय में, एक साथ पैदा हो जाओगी, पुनर्जन्म हो जायेगा। फिर दोनों का मिलन भी हो जायेगा। ब्राह्मणों ने यह योजना जाति व्यवस्था को बनाये रखने के लिए बनाई। जैसे कोई चोर यह नहीं कहता कि में चोर हूँ; यही हाल ब्राह्मणों का है। जन्म जन्म का काल्पनिक सिद्धांत बना कर स्त्रियों पर मन चाहे अत्याचार किये गये ताकि जातिव्यवस्था बनी रहे। 
    क्रमिक असमानता – जाति बंधन डालने के बाद उसे बनाये रखना संभव नहीं था। गुलाम को गुलाम बनाये रखने के लिए हर किसी के ऊपर किसी को रखना ही इस समस्या का समाधान था। सारे मूलनिवासी आपस में लड़ते रहे, मूलनिवासी कभी ब्राह्मणों के खिलाफ खड़े ना हो जाये। इसीलिए ब्राह्मणों ने मूलनिवासियों को ऊँची और नीची जातियों में बाँट दिया। उंच नीच की भावना मानवता की भावना को खत्म कर देती है। इसीलिए ब्राह्मणों ने क्रमिक असमानता के साथ जाति व्यवस्था का निर्माण किया है। और आज भी हर मूलनिवासी जाति और धर्म के नाम पर लड़ता रहता है और ब्राह्मण मज़े से तमाशा देख कर हँसता है। 
    अस्पृश्यता – जातिव्यवस्था बुद्ध पूर्व काल में नहीं थी इसीलिए उस समय के साहित्य में जाति या वर्ण व्यवस्था का वर्णन नहीं आता। इसीलिए यह भ्रान्ति फैली हुई है जिन बौद्धों ने ब्राह्मण धर्म का अनुसरण किया, और ब्राह्मणों ने जिन बौद्धों को अपना लिया वो आज के समय में ओबीसी में आते है। उन पर आज भी ब्राह्मणों का प्रभाव है जिसके कारण ओबीसी में आने वाले लोग दूसरे मूलनिवासियों से अपने आप को उच्च समझते है। ओबीसी भी पुष्यमित्र शुंग की प्रतिक्रांति के बाद बनाया गया मूलनिवासी लोगों का समूह है। 
    सिंधु घाटी की सभ्यता पैदा करने वाले भारतीय लोगो से इतनी बड़ी महान सभ्यता कैसे नष्ट हुई,जो 4500-5000 ईसा पूर्व से स्थापित थी?ये इंग्रेजो ने पूछा था, एक अंग्रेज अफसर को इस का शोध करने के लिए भी बोला गया था। बाद में इसके शोध को राघवन और एक संशोधक ने शुरू किया। पत्थर और ईंटों के परिक्षण में पता चला कि ये संस्कृति अपने आप नहीं मिटी थी। बल्कि सिंधु घटी की सभ्यता को मिटाया गया था। दक्षिण राज्य केरल में हडप्पा और मोहनजोदड़ों 429 अवशेष मिले। ब्राम्हण भारत में ईसा पूर्व 1600-1500 शताब्दी पूर्व आया। 
    ऋग्वेद में इंद्र के संदर्भ में 250 श्लोक आतें हैं। ब्राह्मणों के नायक इन्द्र पर लिखे सभी श्लोकों में यह बार बार आता है कि “हे इंद्र उन असुरों के दुर्ग को गिराओं” “उन असुरों(बहुजनों) की सभ्यता को नष्ट करो”। ये धर्मशास्त्र नहीं बल्कि ब्रहामणों के अपराधों से भरेदस्तावेज हैं। 
    भाषाशास्त्र के आधार पर ग्रिअरसन ने भी ये सिद्ध किया की अलग-अलग राज्यों में जो भाषा बोली जाती हैं,वो सारी भाषाओँ का स्त्रोतपाली है। 
    DNA के परिक्षण से प्राप्त हुआ सबूतनिर्विवाद और निर्णायक है। क्योकि वो किसी तर्क या दलील पर खड़ा नहीं किया गया है। इस शोध को विज्ञान के द्वारा कभी भी प्रमाणित किया जा सकता है। विज्ञान कोई जाति या धर्म नहीं है। इस शोध को करने वाले पूरी दुनिया से 265 लोग थे। बामशाद का यह शोध 21 मई 2001 के TIMES OF INDIA में NATURE नामक पेज पर छपा, जो दुनिया का सबसे ज्यादा वैज्ञानिक मान्यता प्राप्त अंक है। 
    बाबासाहब आंबेडकर की उम्र सिर्फ 22 साल थी जब उन्होंने विश्व का जाति का मूलक्या है, इसकी खोज की थी। और 2001 में जो DNA परिक्षणहुआ था, बाबासाहब का और माइकल बामशाद का मत एक ही निकला था। 
    ब्राम्हण सारी दुनिया के सामने पुरे बेनकाबहो चुके थे। फिर भी ब्राह्मणों ने अपनी असलियत को छुपाने के लिए अपनी ब्रह्माणी सिद्धांत को अपनाया और ऐसा प्रचारित किया कि भारत में दक्षिणी ब्राह्मण दो नस्लों के होते है। ब्राह्मणों ने DNA के परिक्षण को पूरी तरह ख़ारिज नहीं किया और एक और झूठ मीडिया द्वारा प्रचारित करना शुरू कर दिया कि अब कोई मूलनिवासी नहीं है सभी लोग संमिश्र हो चुके है। उन्होंने कहा मापदंड ढूंढा? ब्राह्मणों ने दलील देकर कहा कि अन्डोमान और निकोबार द्वीप समूह की जो आदिवासी जनजाति है वो अफ्रीकन के वंशज है, वो उधर से आया था, और यूरेशियन देशों में चला गया है, इस पर भी शोध होना चाहिए। बामशाद के द्वारा किये गये शोध को नकारने के लिए ब्राह्मणों ने सिर्फ विज्ञान शब्द का प्रयोग किया और उसे झूठा प्रचारित किया। ब्राह्मण अगर यह झूठी कहानी सुनाये तो उस से पूछो कि दोनों ब्राह्मण नस्लों में से विदेश से कौन आया है? विदेशी का DNA बताओ? DNA के आधार पर ब्राह्मण अपनी बातों को सिद्ध नहीं कर सकता। 
    ब्राह्मण मुसलमान विरोधी घृणा आंदोलन क्यों चलता है? 
    क्योकि ब्राह्मणवाद और बुद्धिज्म के टकराव के समय बहुत से बौद्धिष्ट मुसलमान बन गये थे उन्होंने ब्राह्मण धर्म को नहीं अपनाया था। ब्राह्मण जनता है कि आज भारत में जितने भी मुसलमान है वो सब मूलनिवासी है इसीलिए ब्राह्मण मुसलमानों के खिलाफ घृणा का आंदोलन चलता रहता है ताकि ब्राह्मण किसी भी तरह मूलनिवासियों की एक शाखा को पूरी तरह खत्म कर सके। 
    अंग्रेजों के गुलाम ब्राह्मण था और उनके गुलाम मूलनिवासी थे। आज़ादी की जंग में आज़ादी के लिए आंदोलन करने वाले लोगों के सामने यह सबसे बड़ी समस्या थी। इसीलिए डॉ. भीम राव अम्बेडकर ने अंग्रेजों को कहा कि ब्राह्मणों को आज़ाद करने से पहले मूलनिवासी बहुजनों को जरुर आज़ाद कर देना चाहिए। अगर ब्राह्मण मूलनिवासियों से पहले आज़ाद हो गया तो ब्राह्मण मूलनिवासियों को कभी आज़ाद नहीं करेगा। ये आशंका सिर्फ डॉ. भीम राव अम्बेडकर के मन में ही नहीं थी बल्कि मुसलमान नेताओं के मन में भी थी। इसीलिए 14 अगस्त को पाकिस्तान बना। मुसलमानों ने अंग्रेजों को कहा कि गाँधी से एक दिन पहले हमे आज़ादी देना और हमारे बाद गाँधी को देना। अगर तुमने पहले गाँधी को आज़ादी दे दी तो गाँधी बनिया है हमको कुछ नहीं देगा। ब्राह्मणों ने अपनी आज़ादी की लड़ाई मूलनिवासियों को सीडी बनाकर लड़ी और वो अंग्रेजों को भगा कर आज़ाद हो गये। 

    DNA संशोधन से सामने आया कि ब्राह्मण, राजपूत और वैश्य भारत के मूलनिवासी नहीं है। व्यवहारिक रूप से भी देखा जाये तो ब्राह्मणों ने कभी भारत को अपना देश माना भी नहीं है। ब्राह्मण हमेशा राष्ट्रवाद का सिद्धांत बताता आया है लेकिन खुद कितना देशभक्त है ये बात किसी को नहीं बताता। इसका मतलब एक विदेशी गया और दूसरा विदेशी मालिक हो गया, DNA ने सिद्ध कर दिया। दूसरे विदेशी ब्राह्मणों ने ये प्रचार किया कि भारत आज़ाद हो गया। लेकिन आज भी भारत पर आज भी ब्राह्मणों का राज है। इससे यह साबित होता है कि मूलनिवासियों को भविष्य में आज़ादी हासिल करने का कार्यक्रम चलाना ही पड़ेगा। DNA परिक्षण के आधार पर यह भी कहा जा सकता है कि आज भी देश के 130 करोड में से 32 करोड लोग बाकि 98 करोड़ लोगों पर राज कर रहा है। कल्पना करो कितना मुलभुत और महत्वपूर्ण संशोधन है। 

    Like

Comments are closed.