नवारंभ

image

गलत तुम भी थे गलत मैं भी
फिर ये विलाप कैसा उस पथ के चुनाव का ……

गलत पथिक थे या वो पथ
ये उनका अंतर्मन बतलायेगा…..

सब्र करो उस सूर्योदय का
वही नवसर्जित पथ दिखलायेगा…..

Advertisements

30 thoughts on “नवारंभ

  1. Yours_Deepu says:

    पथ
    सदियों से वहीं है
    राही
    नये किरदारों में सफर कर रहे
    कल

    यहां भी कोई
    पात्र नया
    अभिनय कर रहा होगा…

    Liked by 3 people

Comments are closed.