तन्हाई की जुबानी

image

फुरसत के लम्हों में जब कभी तन्हाई से मुलाकात होती है
लफ्जों पे तन्हाई की एक फरियाद सी होती है

कहती वो मुझसे, देखा है अक्सर साथ छोड़ जाते है लोग
तब भी क्यों सिर्फ साथ की ही बात होती है

अकेलेपन की सिर्फ एक साथ हु मैं
तब भी नापसंद आने वाली बात हूँ मैं

इन्सान भले ही मुझे किसी के साथ क लिए छोड़ जाते है
धोखा पा के वापस जब लौटते, मुझे तब भी अपने साथ  पाते है

बेहतर हूँ मैं झुठे लोगो और उनके झूठे वादों से
आशा करती हूँ समझ सको मर्म मेरे ,मेरी इन फरियादों से

Advertisements

39 thoughts on “तन्हाई की जुबानी

Comments are closed.