मेरी तन्हाई

image

पुरसुकून देती है, मुझे मेरी तन्हाई
एहसास शून्य का करवाती, मुझे मेरी तन्हाई

वाचालाता मनुष्य की, कष्ट देती है
दिल को , दिमाग को और आत्मा की आवाज को

तेरे वजूद का एहसास दिलाती है, मुझे मेरी तन्हाई
वरना कहाँ याद कर पाती हु तेरी बातें
इस उमस ,मौकापरस्त, अवसरवादियों के भीड़ में

इंतजार जिसका कर रही ये टूटती सांसें
उस मौत को भी खुबसूरत दिखाती है, मुझे मेरी तन्हाई

मुझ अधूरे को पूरा करती है मेरी तन्हाई
मेरी तन्हाई , मेरी तन्हाई !!!!

Advertisements

22 thoughts on “मेरी तन्हाई

Comments are closed.